Saffron a wounder and most expensive food item,केसर एक आश्चर्य और अनमोल पौधा .....

 Saffron a wounder and most expensive food item,

केसर एक आश्चर्य और अनमोल पौधा .....


1. 
Recognisation. (पहचान) of saffron

a.     Saffron comes from saffron flower named saffron crocus or crocus sativus

b.     The plant is 20-30 cm in height and bear upto four flowers.

c.     Saffron flowers are available in fall through winter.

d.     Saffron  is  sweet  and  husky when smelt.

e.     Real saffron slowly turns the water yellow and retain its red colour.

2.     Uses (प्रयोग) of saffron

a.     It   is   used  as  colouring, essesing, flavouring agent in food items.

b.     Saffron Can  be  used  as  remedy for     many     diseases       like    heart  problem,     blood      pressure,     liver,  kidney   diseases,  cold cough and also in sexual problems.


3.     Reasons for being expensive(महंगा होने का कारण)

a.     Almost   50000   to    75000    crocus sativus  plants  are  needed  to  produce 500gm of saffron.

b.     One    plant    only   produce   three stigmas.

c.     More   than   2,20,000   stigmas  are hand   picked   to   produce   500gm   of saffron.


केसर की पहचान

1.    केसर केसरिया फूल से आता है जिसका नाम केसरिया क्रोकस या क्रोकस सैटिवस होता है 

2.    पौधा 20-30 सेमी ऊंचाई का होता है और चार फूलों तक होता है। 

3.    केसर का फूल सर्दियों के दौरान उपलब्ध होता हैं। 

4.     सूँघने पर केसर मीठा और कर्कश होता है। 

5.    असली केसर धीरे-धीरे पानी को पीला कर देता है और उसका लाल रंग बरकरार रखता है। 

केसर का उपयोग (प्रयोग) 

1.     इसका उपयोग खाद्य पदार्थों में रंगाई,  स्वाद बढ़ाने वाले एजेंट के रूप में किया जाता है। 

2.     हृदय रोग, रक्तचाप, यकृत, गुर्दे की बीमारियों, सर्दी खांसी और यौन समस्याओं जैसे कई रोगों के लिए उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। 

केसर के महंगा होने के कारण 

 1.     500 ग्राम केसर का उत्पादन करने के लिए लगभग 50000 से 75000 crocus sativus पौधों की आवश्यकता होती है। 

2.     एक पौधा केवल तीन कोंपल पैदा करता है। 

3.     500 ग्राम केसर का उत्पादन करने के लिए 2,20,000 से अधिक रेशे हाथ में लिए जाते हैं।

अन्य पढ़ें 

No comments:

Post a Comment